Home Health दुनिया में 82 करोड़ लोग सोते हैं भूखे, विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस पर समझिए खाद्यान संकट की हकीकत

दुनिया में 82 करोड़ लोग सोते हैं भूखे, विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस पर समझिए खाद्यान संकट की हकीकत

by Pooja Attri
0 comment
food

World Food Safety Day 2024: हर साल 7 जून को वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे मनाया जाता है. संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा इस दिन को मनाने का मकसद खाद्य सुरक्षा के बढ़ते खतरे के प्रति लोगों को जागरूक करना था.

07 June, 2024

World Food Safety Day 2024: आज विश्वभर में वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे (World Food Safety Day) सेलिब्रेट किया जा रहा है. हर साल वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे 7 जून को आता है. संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा इस दिन को मनाने का मकसद खाद्य सुरक्षा के लिए बढ़ते खतरे के प्रति लोगों को जागरूक करना था. खाद्य संकट के दौरान लोगों को भुखमरी का सामना करना पड़ता है. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने आगाह किया कि विश्व की 7 अरब 80 करोड़ आबादी का पेट भरने के लिये दुनिया में पर्याप्त भोजन उपलब्ध है लेकिन इसके बावजूद 82 करोड़ से अधिक लोग भुखमरी का शिकार हैं.

इस दिन विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे पर लोगों को खराब खाने के खतरे और उससे होने वाली बीमारियों के प्रति जागरुक करना है. आइए जानते हैं वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे का इतिहास और महत्व.

डेट और थीम (Date and theme)

दुनियाभर में हर साल र्ल्ड फूड सेफ्टी डे 7 जून को सेलिब्रेट किया जाता है. वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे की इस साल की थीम खाद्य सुरक्षा: अप्रत्याशित के लिए तैयारी (Food Safety: Prepare for the Unexpected) है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, ये थीम खाद्य सुरक्षा के प्रति सावधानी बरतने के महत्व को बताती है.

इतिहास (History of World Food Safety Day)

20 दिसंबर 2018 को यूएनओ की जनरल असेंबली ने फूड सेफ्टी डे के लिए 7 जून की तारीख तय की.इस दिन को मनाने का उद्देश्य खाद्य सुरक्षा के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने और खाने से होने वाली बीमारियों को रोकने को बढ़ावा देना था. 7 जून 2019 को पहली बार वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे सेलिब्रेट किया गया. इसके बाद से इस दिन को दुनियाभर में हर साल बनाने का चलन शुरू हुआ.

महत्व (Significance of World Food Safety Day)

खाना न सिर्फ पेट भरने या जिंदा रहने के लिए ही जरूरी नहीं है बल्कि खाना ऐसा होना चाहिए जो सेहत के लिए भी लाभकारी हो. लोगों को इस बारे में जागरुक करने के लिए विश्वभर में वर्ल्ड फूड सेफ्टी डे के अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इस दिन लोगों को इस बात के लिए अवेयर किया जाता है कि कैसे खराब और दूषित खाने से बीमारियां पनपती हैं और वो सेहत के लिए कैसे खतरा बन सकती हैं. खाने से होने वाली बीमारियों के हर साल 600 मिलियन केस आते हैं जिसमें लगभग 420000 लोग मौत के शिकार हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें: Nestlé Baby food Products: Nestlé को बड़ा झटका, बेबी फूड की बारीकी से जांच करेगा FSSAI

You may also like

Leave a Comment

Feature Posts

Newsletter

Subscribe my Newsletter for new blog posts, tips & new photos. Let's stay updated!

@2023 Live Times News – All Right Reserved.
Are you sure want to unlock this post?
Unlock left : 0
Are you sure want to cancel subscription?
-
00:00
00:00
Update Required Flash plugin
-
00:00
00:00