Home National Mysterious Village of India: क्यों ‘मर’ गया देश का एक पूरा गांव, यहां रहने वाले आखिरी इंसान ने भी दुनिया को कह दिया अलविदा

Mysterious Village of India: क्यों ‘मर’ गया देश का एक पूरा गांव, यहां रहने वाले आखिरी इंसान ने भी दुनिया को कह दिया अलविदा

by Preeti Pal
0 comment
Mysterious Village of India

Mysterious Village of India: भारत के कई ऐसे रहस्य हैं जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे. यहां एक ऐसा गांव भी है जिसके सभी लोग मर चुके हैं.

01 June, 2024

Mysterious Village of India: भारत एक अद्भुत देश है जो कई रहस्यों से भरा है. यहां कुछ जगह ऐसी भी हैं जहां के बारे में जानकर किसी की भी रूह कांप जाएगी. एक ऐसा ही गांव है तमिलनाडु के तूतुकुड़ी जिले में सेकराकुडी के पास मौजूद मीनाक्षीपुरम जो अब पूरी तरह से वीरान हो चुका है. यहां रहने वाले अंतिम इंसान कंडास्वामी का भी निधन हो चुका है. दरअसल, मीनाक्षीपुरम कभी सेकराकुडी पंचायत का संपन्न गांव हुआ करता था. फिलहाल ये बुनियादी ढांचे की कमी से जूझ रहा है.

भूत-प्रेत की अफवाहें

मीनाक्षीपुरम के पड़ोसी गांव के रहने वाले एक शख्स शंकरमल ने बताया कि “ये तीन और गांवों का मदर विलेज था, जहां 20 परिवार बिना किसी भेदभाव के रहते थे. यहां कोई बुनियादी सुविधाएं नहीं थीं. ऊपर से भूत-प्रेत की अफवाहें भी थीं. इसलिए सभी लोग यहां से चले गए. आपको बता दें कि गांव के अंतिम निवासी कंडास्वामी और उनकी पत्नी पिछले 15 साल से मीनाक्षीपुरम में रह रहे थे. उन्हें उम्मीद थी कि ये गांव फिर से आबाद होगा. हालांकि, उनकी मौत के बाद अब इस गांव में कोई नहीं बचा.

वीरान हो चुका है पूरा गांव

कंडास्वामी और उनकी पत्नी साल 2013 से अकेले मीनाक्षीपुरम गांव में रहते थे. कुछ समय पहले उनकी पत्नी की भी मौत हुई. कंडास्वामी कहते थे कि मुझे इसी गांव में मेरी पत्नी के बगल में दफना देना. इसके अलावा वो अपने बेटे और सरकार से मिलने वाले राशन की मदद से अपना गुजारा करते थे. 28 मई को उनका भी निधन हो गया. अब पूरा गांव वीरान हो चुका है.

मंदिर बनने पर फिर बसेगा गांव

केरल में बसे यहां के लोगों ने मीनाक्षीपुरम गांव में मंदिर बनने पर वापस लौटने की इच्छा जताई है. वो दोबारा यहां बसने के लिए तैयार हैं बस उन्हें बुनियादी सुविधाएं और घर चाहिएं. वहीं, आस-पास के लोग इस गांव में गायों को चराने के लिए अब भी आते हैं. हाल ही में सरकार ने 40 लाख रुपए की लागत से गांव तक सड़क बनवाई थी. हालांकि, गांव को अब भी यहां रहने वालों का इंतजार है.

यह भी पढ़ेंः MR. & MRS. MAHI REVIEW: पुराना कॉन्सेप्ट मगर इ्ंस्पायर करती है जान्हवी कपूर और राजकुमार राव की फिल्म

You may also like

Leave a Comment

Feature Posts

Newsletter

Subscribe my Newsletter for new blog posts, tips & new photos. Let's stay updated!

@2023 Live Times News – All Right Reserved.
Are you sure want to unlock this post?
Unlock left : 0
Are you sure want to cancel subscription?
-
00:00
00:00
Update Required Flash plugin
-
00:00
00:00